बिहार में 75 लाख छात्रों की पढ़ाई चौपट…7 लाख दोबारा नहीं पढ़ सकेंगे!

Share

बिहार की शिक्षा पर अंतर्राष्ट्रीय संस्था यूनिसेफ (UNICEF) ने चौंकाने वाला आंकड़ा जारी किया है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बिहार में  लॉकडाउन की वजह से 31% छात्रों को पढ़ाई बंद करनी पड़ी। ऐसे छात्रों की संख्या बिहार में 75 लाख है, जो अभी पढ़ाई से दूर हैं। रिपोर्ट में बाताया गया है कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि ग्रामीण इलाकों में छात्रों के पढ़ने लिए ऑनलाइन सामग्री उपलब्ध नहीं हुई। इन 75 लाख छात्रों के पास ऐसी कोई सुविधा और सामग्री नहीं है जिससे वो ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण कर सकें। बिहार में 7 लाख छात्रों को लगता है कि वो अब दोबारा पढ़ाई शुरू नहीं कर पाएंगे। जिन बच्चों को लगता है कि वो दोबारा पढ़ाई शुरू नहीं कर पाएंगे, उनमें 5.49% फीसदी लड़कियां हैं, जबकि 0.26% फीसदी लड़के हैं।

UNICEF की रिपोर्ट आने के बाद बिहार शिक्षा विभाग के अतिरिक्त सचिव संजय कुमार का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि ये सच है कि छात्रों की एक बड़ी आबादी है, जो ऑनलाइन सामग्री नहीं होने की वजह से लॉकडाउन में शिक्षा से दूर हो गई । उन्होंन कहा कि बच्चों की शिक्षा सुनिश्चित करने की दिशा में बिहार सरकार काम कर रही है। बिहार सरकार ने ऑनलाइन सामग्री उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार से भी मांग की है।

1 2 3 72

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction