बिहार: पश्चिम चंपारण में बाढ़ का खतरा… गोपालगंज के 100 से अधिक गांव डूबे…

Share

गोपालगंज  के वाल्मीकि नगर बराज से से 4 लाख 12 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है. जिसके कारण गोपालगंज के 100 से अधिक गांव में पानी भर गया। लोगों को माइक के जरिए गांव से बाहर आने की अपील की जा रही है। सदर एसडीएम के निर्देश पर सदर प्रखंड में तीन जगहों पर शरणस्थली बनाए गए हैं। जहां पर लोगों को मवेशियों साथ रहने की व्यवस्था की जा रही है।

बता दे कि वाल्मीकि नगर बराज से पानी छोड़ने के कारण पानी अब तेजी से गोपालगंज के गांवों में पहुंचने लगा है। अचानक आयी पानी के कारण बाढ़ की स्थिति बन गयी है। बाढ़ की चपेट में करीब 100 से अधिक गांव आये है। जिसके कारण सैकड़ों लोगों का पलायन जारी है। पानी छोड़े जाने के कारण गंडक नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया है, जिसे लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। जलस्तर को देखते हुए जिला प्रशासन ने पूरे इलाके में हाई अलर्ट जारी कर दिया है। लोगों से तटबंधों के अंदर बसे ग्रामीणों को बाहर निकलने की अपील की है। पिछले साल गोपालगंज में गंडक के दबाव से सारण बांध दस जगहों पर सारण और रिंग बांध टूटा था। जिससे बड़े पैमाने पर तबाही हुई थी। इस साल पानी छोड़े जाने के बाद पिछले साल बनाए गए सत्तरघाट महासेतु का एप्रोच पथ को दो जगह पर काट दिया गया है। करीब 10 मीटर के दायरे में काटे गए इस एप्रोच पथ से गंडक के पानी का डिस्चार्ज तेज करने का प्रयास किया जा रहा है। जिससे तटबन्ध के टूटने का खतरा भी कम हो सके।

1 2 3 93

7 Comments

  1. Pingback: झारखंड में सीएम ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने के दिए निर्देश – झारखंड जंक्शन

  2. Pingback: झारखंड में सीएम ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने के दिए निर्देश – झारखंड जंक्शन

  3. Pingback: फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह का निधन… 91 साल की उम्र में चंडीगढ़ में ली आखिरी सांस… – झारखंड जंक्शन

  4. Pingback: रांची में एक ऐसा चोरों का गिरोह जिसे चलाती है लड़कियां… पकड़ाने पर किया बड़ा खुलासा – झारखंड ज

  5. Pingback: मर्डर मिस्ट्री का खुलासा: हत्या की योजना बनी नासिक में, हत्या हुई कोलकाता में और झारखंड में मिली ल

  6. Pingback: कोडरमा में रेलवे ट्रैक पर पर हुआ भू-स्खलन… नई दिल्ली-रांची राजधानी का इंजन क्षतिग्रस्त.. – झारख

  7. Pingback: गढ़वा में प्रेमी जोड़े पर दीवार गिरने से प्रेमी की मौत… प्रेमिका गंभीर… – झारखंड जंक्शन