ओएलएक्स पर ठगी गिरोह सक्रिय… बरतें ये सावधानी

Share

ठगी करने वाला गैंग एक बार फिर से ओएलएक्स पर सक्रिय हो गया है। ऐसे ठगों की नजर सेकेंड हैंड सामानों का विज्ञापन डालने वाले लोगों पर है। ठगी करने वाले अब सैनिकों की वर्दी पहनकर लोगों को विश्वास में ले रहे हैं। फिर सामने वाले के खाते से रुपये उड़ा लिये जा रहे हैं। जालसाज सरकारी अधिकारी बनकर अपने वाट्सएप पर प्रोफाइल फोटो लगाते हैं। हाल के दिनों में पटना में भी ऐसी घटनाएं हुई हैं। ठग गैंग फर्जी मोबाइल नंबर लेकर लोगों को कॉल करता है ताकि पुलिस उन तक पहुंच न सके।

आर्मी अफसर बताकर 17 वर्षीय मनीष कुमार छात्र से ओएलएक्स पर 1 लाख 96 हजार 130 रुपये ठग लिये गये। कंकड़बाग अशोक नगर रोड नंबर 9 के रहने वाले मनीष ने कंकड़बाग थाने में केस दर्ज करवाया। बीते 29 अक्तूबर को उसने ओएलएक्स पर पुरानी किताबों को बेचने के लिये एक विज्ञापन डाला था। कुछ ही देर बाद उसे एक नंबर से कॉल आया। कहा कि उसका नाम अनिल कुमार है। वह आर्मी का है जबकि उसका भाई पुरानी किताबों की खरीद-बिक्री करता है। इसके बाद ठग ने उसे बड़े शैक्षणिक संस्थानों के नोट्स देने के नाम पर जाल में फंसा कर पैसे ठग लिये। अगर आपने पुरानी गाड़ी बेचने का विज्ञापन डाला है और कोई गाड़ी देखने के बहाने उसका ट्रायल लेना चाहे तो सावधान रहें। ट्रायल के बहाने ठग गाड़ी लेकर भाग जाते हैं। कई बार ठग मोबाइल जैसी चीजों को बेचने से संबंधित विज्ञापन खुद ही ओएलएक्स पर डाल देते हैं। पैसा लेने के बाद ग्राहक के हाथ में नकली सामान थमाकर वे निकल जाते हैं। अगर ओएलएक्स पर सामान की खरीद-बिक्री को लेकर अगर कोई कॉल करें तो कभी भी उससे सुनसान जगहों पर न मिलें। सामान लेने से पहले उसकी पूरी पड़ताल कर लें। अगर किसी पर शक हो तो तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दें। बिना जांचे-परखे किसी को भी यूपीआई के माध्यम से रुपये न भेजें। एक रुपये भेजने पर भी आपका खाता खाली हो सकता है।

Facebook Comments Box