दरभंगा ब्लास्ट मामले की जांच अब करेगी NIA… यूपी से बाप-बेटा गिरफ्तार

Share

दरभंगा में हुए पार्सल ब्लास्ट की जांच अब NIA  करेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश के बाद एनआईए ने एफआईआर दर्ज कर जांच को अपने जिम्मे लेने की कार्रवाई शुरू कर दी है। दरभंगा जंक्शन पर पार्सल में हुए ब्लास्ट के तार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े होने का शक है। ब्लास्ट के पीछे बड़ी आतंकी वारदात का अंदेशा जताया गया है।

बताया जा रहा है कि अब तक तीन राज्यों की आतंकवाद निरोधक दस्ता पार्सल ब्लास्ट की जांच में लगी थी। बिहार एटीएस, यूपी एटीएस के साथ तेलंगाना एटीएस भी इस मामले की जांच कर रही थी। एटीएस की टीमों ने संयुक्त रूप से एक रिपोर्ट बनाकर केंद्रीय गृह मंत्रालय को सौंपा था। इसके बाद जांच का जिम्मा एनआईए को दिया गया। वहीं, दरभंगा जीआरपी की एक टीम को जांच के सिलसिले में सिकंदराबाद भेजा गया है। कहा जा रहा है कि धमाके से जुड़े चार संदिग्धों को तेलंगाना और उत्तर प्रदेश में हिरासत में लिया गया है। यूपी के शामली में पिता और पुत्र को हिरासत में लिया गया है। बताया जाता कि इनमें से ही किसी एक की आईडी पर वो सिम लिया गया था, जिसका नंबर पार्सल पर लिखा हुआ था। कैराना कोतवाली क्षेत्र के कस्बा कैराना मौहल्ला आलकलां के रहने वाले हाजी कासिम और कफील से कैराना थाने में पूछताछ की जा रही है. संदिग्ध पिता-पुत्र हैं जिनपर दरभंगा जंक्शन ब्लास्ट में शामिल होने का आरोप है। बता दें 17 जून को दरभंगा रेलवे स्टेशन पर एक पार्सल में धमाका हुआ था। ब्लास्ट कम क्षमता वाला था जिससे ज्यादा नुकसान नहीं हुआ, लेकिन धमाका खुफिया एजेंसी का ध्यान खींचने के लिए काफी था। पार्सल तेलंगाना के सिकंदराबाद से बिहार के दरभंगा भेजा गया था। पार्सल पर जो मोबाइल नंबर लिखा था वो यूपी का था। धमाके के बाद तीन राज्यों बिहार, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम मामले की जांच में लगी हुई थी।

1 2 3 93