लश्कर-ए-तैयबा में भर्ती करने वाला आतंकी कैराना में मिला… दरभंगा स्टेशन पार्सल ब्लास्ट से जुड़े है तार…

Share

दरभंगा स्टेशन पार्सल ब्लास्ट  मामले में  पहले एनआईए को तो दूसरी पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। हैदराबाद से आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकी नासिर मलिक और इमरान मलिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वहीं पुलिस को इस मामले 24 घंटे के अंदर दूसरी सबसे बड़ी सफलता मिल गई है। इस दौरान नासिर ओर इमरान को रिक्रूट करने वाला शख्स भी पुलिस के हत्थे चढ़ चुका है।

बताया जा रहा है कि पुलिस ने सलीम के साथ उसके पड़ोसी काफिल को भी हिरासत में लिया है। सलीम कि गिरफ्तारी के बाद जांच एजेंसियों को यह भी पता चला कि जिस कपड़े के गट्ठर में विस्फोट हुआ था उसमें जो मोबाइल नंबर लिखा था वह सलीम के पड़ोसी काफील का नंबर था। जांच के दौरान पता चला है कि सलीम ने ही इमरान और नासिर को आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए रिक्रूट किया था। इसके लिए सलीम ने दोनों को डेढ़ लाख रुपये दिया था। बताया जा रहा है कि सलीम कैराना का रहने वाला है और वह हिंदुस्तान में आतंकी संगठन लश्कर का रिक्रूटर है। वह कई बार पाकिस्तान भी जा चुका है। फिलहाल जांच एजेंसी इस बात का पता लगाने में जुटी हैं कि क्या सलीम ने कैरान या फिर शामली से नासिर और इमरान के अलावा भी लोगों को रिक्रूट किया था। बता दें कि हैदराबाद से पकड़े गए नासिर और इमरान यूपी के शामली के रहने वाले हैं। इन दोनों ने पकड़े जाने के बाद खुलासा किया था कि बड़ी संख्या में जान माल की हानि पहुंचाने के उद्देश्य से ट्रेन में बम रखा गया था। दोनों अतंकियों को अब NIA  स्पेशल कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर लिया जाएगा। इधर NIA को अभी भी इस मामले में मोहम्मद सुफियान की तलाश है जिसके नाम से पार्सल था।

1 2 3 93