बिना परीक्षा के आएगा 12वीं का रिजल्ट…इन राज्यों में भी हो सकता है ऐसा फैसला…जानिए कैसे होगा डीयू में एडमिशन…

Share

कोरोना महामारी की दूसरी लहर का असर 12वीं के छात्रों पर भी पड़ा। इस संकट के वजह से सीबीएसई और आईएससी ने 12वीं की परीक्षा रद्द करने का फैसला ले लिया है। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द करने का फैसला लिया गया। इसके बाद अब कई राज्य सरकारें भी 12वीं की बोर्ड परीक्षा को रद्द कर सकती हैं। ऐसे बच्चों का मूल्यांकन किस आधार पर होगा? और कॉलेजों में उनका दाखिला कैसे होगा? अब ये सवाल सभी के मन में है।

पीएम मोदी ने कहा कि सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा पर फैसला छात्रों के हित में लिया गया है। सीबीएसई के बाद आईएससी बोर्ड ने भी 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी है। इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट (ISC) बोर्ड परीक्षा (12वीं कक्षा) रद्द करने का निर्णय प्रधानमंत्री के साथ हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद किया गया है। भारतीय स्कूल प्रमाणपत्र परीक्षा परिषद (सीआईएससीई) के अध्यक्ष डॉ जी इम्मानुएल ने बताया कि परिणामों को तैयार करने के संबंध में अंतिम निर्णय लिया जाना बाकी है।  वहीं देश की जानी-मानी दिल्ली यूनिवर्सिटी जिसमें लाखों छात्र दाखिला पाने के इच्छुक होते हैं उसमें दाखिले की क्या प्रक्रिया रहेगी। इस सवाल का जवाब यूनिवर्सिटी के एक्टिंग वाइस चांसलर पीसी जोशी ने दिया है। उन्होंने एक अखबार को बताया कि डीयू में दाखिला प्रक्रिया मेरिट के आधार पर ही होगी, प्रवेश परीक्षा के आधार पर नहीं। केंद्र सरकार ने जो निर्णय लिया है उसका सम्मान किया जाएगा। छात्रों के मूल्यांकन का जो भी तरीका निकाला जाएगा उसके रिजल्ट के आधार पर मेटिर बेस पर ही यूनिवर्सिटी में दाखिला किया जाएगा। हालांकि अब बड़ा सवाल ये है कि छात्रों का मूल्यांकन अब किस आधार पर होगा। मूल्यांकन के मानदंड़ों को लेकर अभी घोषणा नहीं किया गया है। माना जा रहा है कि 10वीं कक्षा की मूल्यांकन नीति के तर्ज पर ही 12वीं का मूल्यांकन किया जा सकता है।

1 2 3 104