तीसरी लहर में सुरक्षित रहेंगे बच्चे, डरने की जरूरत नहीं… देश के सबसे बड़े अस्पताल के निदेशक का बयान

Share

कमजोर पड़ रही कोरोना की दूसरी लहर के बीच एक और राहत की खबर है। सोमवार को कोरोना को लेकर केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इसमें दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि पहली और दूसरी लहर में बच्चों को कम संक्रमण हुआ। जिन बच्चों को कोरोना हुआ उनमें मामूली लक्षण दिखे। ऐसे में ये कहाना गलत होगा कि दूसरी लहर में बच्चों को ज्यादा खतरा होगा। हालांकि उन्होंने ये भी कहा तीसरी लहर के लिए तैयारी करनी होगी, क्योंकि अभी तक बच्चे घर में थे, स्कूल नहीं जा रहे थे।

डॉ. रणदीप गुलेरिया की बड़ी बातें – 1. कोरोना की पहली और दूसरी लहर में सबसे सुरक्षित बच्चे रहे 2. जिन स्वस्थ्य बच्चों को कोरोना हुआ, उनमें मामूली लक्षण दिखे    3. बच्चे घर में रहे, स्कूल नहीं गए इससे वो संक्रमित होने से बचे 4. तीसरी लहर में बच्चे ज्यादा संक्रमित होंगे, इसका वैज्ञानिक आधार नहीं है 5. अभी तक आंकड़ों के आधार पर बच्चों में संक्रमण कम होगा, उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं होगी 6. पहली और दूसरी लहर में वो बच्चे अस्पताल में भर्ती हुए, जो पहले से गंभीर बीमारी से पीड़ित थे 7. बाल रोग संघ ने बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने को आधारहीन बताया है

1 2 3 116
Facebook Comments Box