साइबर अपराध की नई कहानी… गूगल विज्ञापन पर 40 से 50 हजार रोज खर्चा करते थे…जो लपेटे में आया उसने पैसा गवाया

Share

झारखंड के 4 ज़िलों ने राज्य की बहुत बदनामी करा दी है.   हर दिन देश के अलग अलग कोने से लोग ठगे जा रहे हैं सो  अलग. दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने साइबर प्रहार पार्ट-2 आपरेशन के तहत  साइबर क्राइम के हॉट्सपॉट माना जाने वाला जामताड़ा, देवघर, गिरिडीह और बिहार के जमुई जिले में छापेमारी की. पुलिस की इस छापेमारी में 14 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसमे गिरोह का मास्टरमाइंड अल्ताफ अंसारी जामताड़ा से गिरफ्तार हुआ है. अल्ताफ अंसारी फेक वेबसाइट बनाने में माहिर है. वो लोगों को झांसे में लेने के लिए गूगल पर रोज 40 से 50 हजार खर्च कर विज्ञापन चलता था. जो लोग अपने मोबाइल में तरह तरह के लोक लुभावन विज्ञापन देख कर फंस जाते थे उन्हें निशाना बना कर ठगी की जाती थी.

पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि ये गिरोह बहुत बड़ा है. कुछ लोग मिलकर एक चोर कंपनी की तरह काम कर रहें है. कुछ छोटे ग्रुप में काम कर रहे हैं. ये लोग विज्ञापन पर हजारों लाखों रुपये खर्च कर लोगों को अपने जाल में फंसा रहे हैं. डीसीपी अन्येश रॉय ने बताया कि गिरफ्तार मास्टरमाइंड अल्ताफ अंसारी पुलिस की गतिविधि पर भी नजर रखता था. पुलिस के मुताबिक इसका मास्टर माइंड अल्ताफ अंसारी उर्फ ‘रॉकस्टार’ लोगों को ठगने के लिए पूरी टीम तैयार की थी. उसकी टीम में काफी सारे कॉलर रखे हैं, जो लोगों से ऑनलाइन ठगी करते हैं. पुलिस के मुताबिक ये लोग UPI पेमेंट के जरिये ठगी करते थे, जिसमें वो सामने वाले को यूपीआई पेमंट करने पर मजबूर करते थे. इसके लिए वो KYC अपडेशन के नाम पर, सिम या बैंक अकाउंट ब्लॉक कराने की धमकी देते थे. पुलिस के मुताबिक इन अपराधियों कई बैंक अधिकारियों को भी अपना निशाना बनाया है. पुलिस के मुताबिक ये अबतक का बहुत बड़ा आपरेशन है. जिसमे कई तरह के फ्रॉड और  बहुत बड़े गैंग का पता चला है.

1 2 3 116
Facebook Comments Box