जेल में पहली बार कैदियों ने की सामूहिक खुदकुशी की कोशिश…

Share

नई दिल्ली के तिहाड़ सेंट्रल जेल में पांच बंदियों ने सामूहिक खुदकुशी की कोशिश की. जेल स्टाफ को समय रहते इसका पता लगने की वजह से सभी को बचा लिया गया. बीमार लोगों में एक बंदी को नजदीकी डीडीयू अस्पताल में दाखिल कराया गया है. बंदियों की सामूहिक खुदकुशी की कोशिश किए जाने की वजह की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक तिहाड़ की जेल संख्या तीन में यह घटना हुई. वहां मंगलवार को एक साथ पांच कैदियों ने खुदकुशी की कोशिश की. तिहाड़ की जेल संख्या तीन में वॉर्ड नंबर एक के पांच कैदियों ने पहले खुद को किसी तेज धार वाली चीज से जख्मी कर लिया. बाद में सभी ने अपने वॉर्ड के अंदर ही छत या खिड़की से लटककर खुदकुशी करने की कोशिश की. समय रहते इसकी जानकारी वहां ड्यूटी पर तैनात जेल कर्मचारियों को लग गई. उन्होंने फौरन शोर मचाते हुए कैदियों के वॉर्ड को खोला. इसके बाद उन सभी की जान बचाई गई. घटना की पूरी जानकारी जेल के सभी बड़े अफसरों को दी गई. पहले सभी घायल कैदियों को जेल के अंदर बड़े अस्पताल में ले जाया गया. एक कैदी को गंभीर हालत में डीडीयू अस्पताल रेफर कर दिया गया है. तिहाड़ जेल में एकसाथ पांच कैदियों की खुदकुशी की कोशिश करने की घटना इतिहास में पहली बार हुई है. हालांकि, तिहाड़ जेल कई बार अकेले कैदी खुदकुशी या उसकी कोशिश को अंजाम दे चुके हैं. जेल प्रशासन के मुताबिक तिहाड़ में नए सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद कई कैदियों को मौका रहते बचा भी लिया गया है. तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने घटना के बारे में कहा कि कैदियों के घायल होने की उन्हें जानकारी है, मगर उन्होंने सामूहिक रूप से खुदकुशी की कोशिश की है या नहीं इसकी कोई रिपोर्ट नहीं है.  गोयल ने कहा कि पहले तो सभी कैदियों की काउंसलिंग की जाएगी. इसकी मदद से भविष्य में उनके इस तरह के कदम उठाने की कोशिशों पर रोक लग सकेगी. साथ ही कैदियों के जेल में व्यवहार समेत तमाम दूसरी बातों की जानकारी ली जाएगी. इस बारे में भी पता लगाया जाएगा कि क्या उन में किसी एक ने या एक साथ कई कैदियों ने क्या पहले भी ऐसी कोई कोशिश की है. कैदियों की जान बचाने के लिए ड्यूटी पर तैनात जेलकर्मी की सराहना भी की जा रही है.

1 2 3 179
Facebook Comments Box