साल का पहला सूर्य ग्रहण… भारत में कब और कहां दिखेगा ‘रिंग ऑफ़ फ़ायर’… जानें जरूरी बातें

Share

इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को यानी आज लगने जा रहा है। यह सूर्य ग्रहण कई मायनों में दुर्लभ माना जा रहा है। हिंदू धर्म में सूर्य ग्रहण का बहुत महत्व है। इस दिन ज्येष्ठ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि है। इसके अलावा इस दिन शनि जयंती और वट सावित्र‍ि व्रत भी है। ये ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर लगेगा  और शाम 6 बजकर 41 मिनट पर खत्म होगा। हालांकि इसका असर भारत में कम जगह पर दिखाई देगा। इस ग्रहण का असर भारत के अरुणाचल प्रदेश में और पाक अधिकृत कश्मीर में दिखाई देगा।

धार्मिक महत्व के अनुसार, हिंदू धर्म में ग्रहण को अच्छा नहीं माना जाता। एक तरह से इसको सूर्य के लिए कष्टदायक कहा जाता है। इसलिए इस दिन लोग भगवान विष्णु की उपासना और दान पुण्य करते हैं। हमारी धार्मिक परंपरा के अनुसार हमें अपने देवी-देवताओं का पूजन करना चाहिए। यथा समर्थ दान भी करना चाहिए। इस दौरान सूर्य बीज मंत्र और दूसरी आराधना अभी बहुत फलदायक मानी गई है। साथ ही इस ग्रहण में अन्न का दान सबसे बड़ा दान माना गया है।

ग्रहण शुरू होने के समय क्या करें-

सूर्य ग्रहण शुरू होने के समय पूजा-पाठ करना चाहिए।

अपने अराध्य का नाम लें। भगवान विष्णु की उपासना करें।

ग्रहण के बाद पवित्र नदियों में स्नान का महत्व है।

स्नान के समय सूर्य बीज मंत्र का जाप अवश्य करें।

ग्रहण के समय में दान का विशेष महत्व है।

1 2 3 72

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction