बंद हो रहें है देश के 94 रेलवे स्कूल… चक्रधरपुर रेल मंडल के छह स्कूल भी शामिल…

Share

रेल कर्मचारियों के बच्चे रेलवे स्कूलों न पढ़कर निजी स्कूलों में पढ़ते हैं। लगभग 8 लाख बच्चों में 7.85 लाख बच्चे रेलवे स्कूलों न पढ़कर निजी स्कूलों में पढ़ते हैं। जिसे देखते हुए देशभर के 94 रेलवे स्कूल बंद होंगे। केंद्र सरकार ने इसकी कवायद शुरू हो गई है। इनमें चक्रधरपुर रेल मंडल के छह स्कूल भी शामिल हैं। देशभर के रेल कर्मियों के 7.99 लाख बच्चे 4 से 18 साल आयु वर्ग के हैं। इनमें से मात्र 2 प्रतिशत यानी 16 हजार बच्चे ही रेलवे स्कूल में पढ़ते हैं।

साथ ही रेलवे बोर्ड समेत सभी रेल मंडल के महाप्रबंधकों (जीएम) को पत्र भेज दिया है। इसमें कहा गया है कि रेलवे अपने कर्मचारियों को शिक्षा भत्ता और हॉस्टल भत्ता देती है। ऐसे में अधिकतर रेलवे कर्मचारी अपने बच्चों को निजी स्कूलों में पढ़ाते हैं। रेलवे मेंस कांग्रेस, चक्रधरपुर मंडल के शशि मिश्रा ने बताया कि दरअसल, रेलवे स्कूलों में रेल कर्मियों के बच्चों की संख्या काफी कम है। साथ ही रेलवे कर्मचारियों को शिक्षा भत्ता और हॉस्टल भत्ता भी देती है। इसलिए संसाधनों का सही जगह इस्तेमाल करने और खर्च बचाने के लिए रेलवे यह कदम उठा रहा है। चक्रधरपुर डिवीजन में टाटानगर, सीनी, झारसुगुड़ा, डांगुवापोसी, बंडामुंडा और चक्रधरपुर में एक-एक रेलवे स्कूल हैं। सबको मिलाकर लगभग 900 बच्चे पढ़ रहे हैं। इनमें रेल कर्मियों के बच्चों की संख्या सिर्फ 250 है।

Facebook Comments Box