कोडरमा में इंजीनियर की शादी से पहले उठी अर्थी… मातम में बदल गई खुशियां…

Share

कोरोना महामारी बूढे़ हो या जवान सभी पर काल बनकर टूटी है। इसकी चपेट में सभी आ रहे हैं। कोरोना महामारी में कई घरों के चिराग बुझ गए। आए दिन अपनों की मौत से परिजनों पर दुख का पहाड़ टूट रहा है। कोडरमा के जयनगर प्रखंड के सतडीहा गांव में भी एक युवा इंजीनियर को कोरोना ने अपने आगोश में ले लिया। आपको बता दें कि मृतक की कुछ दिनों बाद शादी होने वाली थी, लेकिन नियती को कुछ और ही मंजूर था।

इस महामारी ने एक परिवार की खुशियों को पल भर में गम में तब्दील कर दिया। जहां इस घर से बारात निकलना था वहीं अर्थी उठ गई। बताया जा रहा है कि 28 साल का मंजीत यादव की बारात शुक्रवार को घर से निकलनी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण सेहरा सजने के पहले ही मंजीत मौत के मुंह में समा गया। मंजीत के घर की सारी खुशियां मातम में बदल गईं। गांव में सन्नाटा पंसर गया। उसके सभी सगे संबंधी आस पड़ोस के लोग गम में डूब गए।

कहा जा रहा है कि मृतक मंजीत यादव हैदराबाद की एक निजी कंपनी में इंजीनियर था। उसकी शादी 30 अप्रैल को होनी थी। 28 अप्रैल की सुबह लग्न का मुहूर्त था। मंजीत विवाह के लिए 5 दिन पहले हैदराबाद से अपने घर जयनगर के सतडीहा आया था। मंजीत के पिता विजय यादव धनबाद में नौकरी करते हैं और वह पिता के पास शादी के सामानों की खरीदारी करने के लिए गया था। इसी बीच उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई। मंगलवार को जब वह घर पहुंचा तो कोरोना जांच करवाने पर उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हालत ज्यादा बिगड़ने पर उसे कोडरमा के कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया जहां उसने दम तोड़ दिया।

Facebook Comments Box