आयुष्मान योजना: पैसे मांगने पर 5 लाख का जुर्माना.. अस्पताल का लाइसेंस सस्पेंड

Share

सरायकेला के आदित्यपुर के एक निजी अस्पताल मेडिट्रीना अस्पताल का लाइसेंस अगले आदेश तक सस्पेंड कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि हॉस्पिटल प्रबंधन आयुष्मान योजना के तहत इलाज कराने वाले मरीजों से रुपए ले रहें थें। जिसकी स्वास्थ्य विभाग से शिकायत की गई थी। इस मामले की जांच करने पर मामले को सही पाए जाने से अस्पताल के लाइसेंस को सिविल सर्जन ने सस्पेंड कर दिया है। इसके साथ ही अस्पताल पर पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। अस्पताल के सस्पेंड होने के बाद से  इस अस्पताल में नए मरीजों को भर्ती करने पर भी रोक लगा दी गई है। पुराने जो भी मरीज अस्पताल में भर्ती हैं, उन्हें भी एक सप्ताह तक का समय दिया गया है। इस अस्पताल को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। डॉ. हिमांशु ने कहना है कि अस्पताल के बारे में पहले से ही शिकायतें मिल रहीं थी। इस बार मरीजों से शिकायत मिलने पर उन्होंने इसकी खुद जांच की थी। इसके बाद ही अस्पताल पर क्लीनिकल इस्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही डॉ. हिमांशु ने कहा कि जांच के दौरान मेडिट्रीना अस्पताल  में कई खामियां पाई गईं हैं। इसके पहले भी  खामियों को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया गया था, लेकिन उसका अनुपालन नहीं किया गया। अस्पताल को चलाने का लाइसेंस अगले आदेश तक निलंबित ही रहेगा।