झारखंड में बढ़ रहा ब्लैक फंगस… 19 जिलों में 27 केस… 9 मरीजों की मौत

Share

राज्य में ब्लैक फंगस यानी म्यूकरमाईकोसिस के संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। राज्य के 19 जिलों में ब्लैक फंगस के 27 केस मिल चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि ब्लैक फंगस के 36 संदिग्ध मरीज है। वहीं, अब तक ब्लैक फंगस से 9 पीड़ित मरीजों की मौत हो चुकी है। ये सभी मरीज रिम्स, मेडिका, टीएमएच जमशेदपुर, एमजीएम, जमशेदपुर, रामप्यारी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल रांची में एडमिट हैं। ब्लैक फंगस से पहले ही रांची के मेडिका में एक, रिम्स में चार, जमशेदपुर के टीएमएच में तीन मरीजों की मौत हो चुकी हैं। गुरुवार को रांची के राज हॉस्पिटल में एक मरीज की मौत हो गई है। इससे ब्लैक फंगस से मरने वालों की संख्या 9 हो गई है।

बताया जा रहा है कि रांची में ब्लैक फंगस के सात एक्टिव और 11 संदिग्ध केस हैं, तो पूर्वी सिंहभूम में 12 एक्टिव और तीन संदिग्ध केस मिले हैं। इसके अलावा पलामू में 1 एक्टिव और 1 संदिग्ध के साथ साथ रामगढ़ में तीन एक्टिव और तीन संदिग्ध केस हैं। इसके अलावा बोकारो में दो, चतरा में एक, धनबाद में दो, गढ़वा में एक, गिरिडीह में चार, गोड्डा में एक, गुमला में एक, हजारीबाग में दो, कोडरमा में दो, लातेहार में एक और साहेबगंज में एक संदिग्ध केस हैं। एनएचएम झारखंड के आईईसी नोडल अधिकारी सिद्धार्थ त्रिपाठी ने बताया कि राज्य में म्युकर माइकोसिस के इलाज के लिए लिपोसोमल अम्फोटेरिसिन बी उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि सभी जिलों को दवा भेज दी गई है। इसके साथ ही निजी अस्पताल भी डिमांड कर उचित कीमत पर दवा ले सकते हैं।

1 2 3 73

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction