बाबा बासुकीनाथ का जलाभिषेक करें इस कोरोना काल में भी… जानें पूरी प्रक्रिया

Share

देश भर में कोरोना के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए जिला प्रशासन के निर्देश पर मंदिर प्रबंधन के द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार झारखंड के भी बासुकीनाथ धाम में अरघा से जलाभिषेक शुरू हो गया है. बीते वर्ष 2020 व 2021 में भी वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण से बचाव को लेकर बासुकीनाथ में लंबे समय तक स्पर्श पूजा पर रोक लगा दी गई थी. वर्ष 2020 में जलाभिषेक पर लगाए गए रोक के बाद करीब सात महीने बाद अरघा लगाया गया था, वैसे ही वर्ष 2021 में भी लंबे समय तक पूजन बंद कर दिया गया था.

अब श्रद्धालुओं के लिए बाबा बासुकीनाथ मंदिर में अरघा के माध्यम से जलाभिषेक की व्यवस्था की गई है. इस बारे में जानकारी देते हुए बासुकीनाथ मंदिर प्रभारी सह बासुकीनाथ नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी आशुतोष ओझा ने कहा कि बासुकीनाथ मंदिर में सुबह छह से लेकर शाम चार बजे तक अरघा से जलाभिषेक की अनुमति होगी. इसमें शामिल होने के लिए ऑफलाइन व्यवस्था है. ई-पास की अनिवार्यता नहीं रहेगी. एक घंटे में अधिकतम 100 श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में प्रवेश करने की अनुमति मिलेगी. गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए यह निर्णय अचानक से लिया गया है. बासुकीनाथ मंदिर के गेट पर पुलिसकर्मी तैनात थे एवं बिना मास्क पहने किसी भी यात्री को प्रवेश करने नहीं दे रहे थे. वर्ष 2020 और 2021 में भी कोविड-19 संक्रमण की वजह से स्पर्श पूजा पर रोक लगाई गई थी. वर्ष 2020 में करीब सात महीने के बाद 16 अक्टूबर से अरघा से जलाभिषेक की व्यवस्था बहाल हुई. छह फरवरी 2021 को स्पर्श पूजा की शुरुआत हुई थी जिसके बाद पुन: दो महीने बाद दो अप्रैल से स्पर्श पूजा पर रोक लगाते हुए अरघा से जलाभिषेक की शुरुआत कराई गई.

1 2 3 179
Facebook Comments Box