देवघर: मां के अंतिम संस्कार के लिए नहीं थे पैसे… मां के लाडले ने लगा ली फांसी

Share

देवघर से दिल को झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। शनिवार को जसीडीह के चरकीपहाड़ी गांव में एक युवक ने केवल इस वजह से आत्महत्या कर ली क्योंकि उसके पास अपनी मां के अंतिम संस्कार के लिए पैसे नहीं थे। फांसी लगाने वाले युवक किशन चौधरी की मां पिछले तीन साल से लकवाग्रस्त होने के कारण काफी बीमार चल रही थी। घटना की जानकारी परिजनों ने जसीडीह पुलिस को दी। सूचना पर एसआई गुलाम गोश हुस्सामी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लेते हुए मां और बेटे का शव अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल देवघर भेज दिया है।

युवक किशन चौधरी की मां पिछले तीन साल से लकवाग्रस्त होने के कारण काफी बीमार चल रही थी। शुक्रवार को अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद उसकी मौत हो गई। परिवार के सभी सदस्यों ने अंधेरा होने के कारण शनिवार सुबह दाह-संस्कार के लिए ले जाने का निर्णय लिया। इस दौरान महिला के शव की देखरेख करने के लिए सभी सदस्य एक ही स्थान पर सोये थे। मगर अचानक छोटा लड़का किशन चौधरी देर रात कमरे में सोने चला गया और अंदर से दरवाजा बंद कर लिया। शनिवार सुबह परिवार के सदस्यों ने उसे जगाने की कोशिश की मगर काफी देर तक दरवाजा नहीं खोलने पर परिजनों के मन में शंका हुई और परिजनों ने किसी प्रकार कमरे में झांककर देखा। लोगों की नजर छत में लगी लकड़ी के बल्ली से फांसी के फंदे से झूल रहे किशन के शव पर पड़ी।  इसके बाद घर में कोहराम मच गया। घटना की जानकारी परिजनों ने जसीडीह पुलिस को दी। सूचना पर एसआई गुलाम गोश हुस्सामी सदलबल मौके पर पहुंचे व स्थिति का जायजा लेते हुए मां और बेटे का शव अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल देवघर भेज दिया है। पुलिस की ओर से की गई पूछताछ में परिजनों ने बताया कि मृत युवक दिहाड़ी मजदूरी का काम करता था।

1 2 3 93