Loan के लिए आवेदन स्वीकृत हो गया…महिलाओं को पता भी नहीं चला….धनबाद में ये कैसे हो गया?

Share

धनबाद के महुदा थाना क्षेत्र के सिंगड़ा गांव में महिलाओं को ग्रुप लोन दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। गांव की 12 से अधिक महिलाओं से ग्रुप लोन के नाम पर धोखाधड़ी की गई है। बैंक से नोटिस आने पर पीड़ित महिलाओं को इस धोखाधड़ी की जानकारी हुई। इसके बाद पीड़ित महिलाओं ने महुदा थाने पहुंच कर आरोपी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है।

बताया जा रहा है कि महुदा थाना क्षेत्र के सिंगड़ा गांव की महिलाओं को जब बैंक से 15 लाख जमा करने के लिए बैंक का नोटिस आया। तब इस मामले का खुलासा हुआ। महिलाओं ने पुलिस को बताया है कि गांव के ही राजेंद्र कर्मकार और उसकी पत्नी कुंती देवी ने ग्रुप लोन दिलाने के नाम पर महिलाओं से 15 लाख की धोखाधड़ी की है। पीड़ित महिलाओं का आरोप है कि मंजू देवी महिलाओं का ग्रुप सेंटर चलाती हैं। हम सभी महिलाएं भी सेंटर जाया करती थीं। इस दौरान मंजू ने 12 से अधिक महिलाओं को अपने जाल में फंसा लिया और लोन के लिए दस्तावेज ले लिए। लेकिन लोन की राशि महिलाओं को नहीं मिली। बाद में बैंक से नोटिस आने के बाद धोखाधड़ी की जानकारी मिली। कहा जा रहा है कि मंजू के पति राजेंद्र कर्मकार ने पत्नी मंजू देवी को कहीं दूसरी जगह पहुंचा दिया है और अब मंजू देवी का कही अता-पता नहीं चल रहा है। महिलाओं ने पुलिस से पति पत्नी की गिरफ्तारी की मांग की है।

1 2 3 109