फेसबुक पर प्यार… प्यार में हत्या… ऐसे चढ़े पुलिस के हत्थे…

Share

दुमका के हंसडीहा थाना की पुलिस ने फेसबुक फ्रेंड के प्यार में पागल पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर पति की हत्या की. इस मामले में पुलिस ने खुलासा किया है. पुलिस ने पत्नी संग उसका ब्वॉयफ्रेंड को गिरफ्तार किया है. हत्या की यह वारदात जून 2019 में हुई थी. बिहार के बांका जिले के धोरैया-बांसबिट्टा निवासी जीवन सिंह की हत्या खुद उसकी पत्नी आशा देवी प्रेमी गौरव कुमार ओझा के साथ की थी. जून, 2019 में घटना को अंजाम देने के बाद 31 दिसंबर, 2020 को आशा ने गौरव के साथ दुमका के शिव पहाड़ मंदिर में शादी कर ली थी. जबकि 27 नवंबर, 2021 को दोनों ने कोर्ट मैरेज भी कर लिया था.

जीवन सिंह की पत्नी आशा देवी और गौरव की दोस्ती फेसबुक से हुई. वहीं से उसका नंबर भी गौरव को मिल गया, तो दोनों में बातचीत होने लगी. दोनों में प्यार भी हो गया. जिसके बाद गौरव ने साजिश के तहत जीवन सिंह से बिना सही नाम-पता बताये दोस्ती की और फिर उसकी हत्या कर दी. हत्या के बाद गौरव फरार हो गया था. हंसडीहा थाना प्रभारी आकृष्ट अमन ने इस केस की गुत्थी सुलझाने को चुनौती के तौर पर लिया. अनुसंधान में पता चला कि जीवन की पत्नी आशा अपने मायके बाउरीपाड़ा के पास किसी रेंट के मकान में गौरव नाम के लड़के के साथ रहती है. इस अहम सुराग पर श्री अमन जमीन का खरीदार बनकर पहुंचे, तो पता चला कि वह अपने नये पति गौरव कुशवाहा के साथ रह रही है. सत्यापन के बाद गौरव को धर दबोचा गया. गौरव कुशवाहा बनकर रह रहे गौरव का असली नाम गौतम कुमार है और वह बिहार के बांका जिला अंतर्गत अमरपुर के बलुआ का रहनेवाला है. उसके स्वीकारोक्ति के बाद आशा देवी को भी धर दबोचा गया. पुलिस ने घटना में प्रयुक्त गौरव और आशा देवी के मोबाइल, दोनों के शादी के प्रमाण पत्र तथा गौरव का दो अलग-अलग पता का दो आधार कार्ड बरामद किया है. हत्या के दिन जीवन घर में अकेला था. गौरव ने नाटकीय ढंग से जीवन से मिला और रात में जीवन के ही घर में रूक गया. दोनों ने घर पर खाना खाया. साथ-साथ शराब पिया. गौरव द्वारा जीवन को काफी देर तक शराब पिलाया जाता रहा. इसके बाद जीवन शराब के नशे में मदहोश हो गया. इस बीच मौका देख गौरव ने चाकू से उसके पेट में 3-4 बार वार किया. इतने में जीवन जोर-जोर से शोर मचाना शुरू कर दिया. जीवन के द्वारा शोर किये जाने पर आवाज सुन आसपास के लोग जमा होने लगे. लोगों को आता देख गौरव वहां से फरार हो गया था.घटना की जानकारी पर पुलिस ने गंभीर हालात में पड़े जीवन को उठाकर इलाज के लिए स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया था. इलाज के क्रम में जीवन ने पुलिस के समक्ष अपने बयान में गौरव द्वारा चाकू से प्रहार कर उसे गंभीर रूप से घायल कर देने की जानकारी दी थी. पुलिस को बयान देने के तीन दिन बाद जीवन ने पटना में दम तोड़ दिया था. जिसके बाद पुलिस आरोपी की धड़-पकड़ के लिए छापेमारी कर रही थी. लेकिन, आरोपी फरार चल रहा था.

1 2 3 179
Facebook Comments Box