गढ़वा में पूछताछ के लिए एक शख्स को थाने ले गए… कुछ देर बाद घर के बाहर शव छोड़ भागी पुलिस

Share

गढ़वा के भंडरिया थाना के नौका गांव में पुलिस गांव के जिस व्यक्ति को पूछताछ के लिए थाने ले गई थी, बाद में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने उसका शव घर पहुंचाया। इस पर हंगामा हो गया। ग्रामीणों के हंगामे के बाद पुलिस दोबारा गांव में गई और शव को पोस्टमार्टम के लिए गढ़वा भेज दिया। परिजनों ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगाया है। फिलहाल, पुलिस ही मामले की जांच कर रही है।

पुलिस ने रविवार की सुबह 45 साल के कृपाल मांझी उर्फ पाला की कथित रूप से पुलिस हिरासत में मौत हो गयी। बताया गया कि कृपाल की मौत के बाद पुलिस ने उसे आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, भंडरिया में भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों ने इलाज कर रेफर कर दिया। इसके बाद पुलिस शव का पोस्टमार्टम कराने की बजाये 2-3 घंटे में ठीक हो जाने की बात कहकर मृतक के घर के बाहर चबूतरे पर शव को रख दिया गया। पुलिस द्वारा शव पहुंचाये जाने की खबर गांव में आग की तरह फैल गयी। धीरे-धीरे ग्रामीणों के जमा होने पर दबाव बढ़ता देख पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए गढ़वा भेजा। वहीं, भंडरिया थाना के एसआई श्रवण कुमार ने कहा कि उस व्यक्ति को पूछताछ के लिए थाने लाया जा रहा था। रास्ते में ही उसकी तबीयत खराब हो गई।  अस्पताल में इलाज के बाद परिजनों के साथ उन्हें घर भेज दिया गया। बाद में पता चला कि उनकी मौत हो गई। अस्पताल में कौन सा इंजेक्शन लगा, मौत का कारण क्या है। इसके लिए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया गया है। इसके लिए मजिस्ट्रेट की भी नियुक्ति की गई है।

1 2 3 109