गुमला में कोरोना संक्रमित शव को ट्रैक्टर पर रख घूमते रहे परिजन… 15 घंटे बाद भी नहीं हुआ अंतिम संस्कार…

Share

गुमला में एक बार फिर प्रशासन की लापरवाही सामने आई है। सोमवार को करीब 15 घंटे से एक कोरोना संक्रमित का शव खुले में पड़ा हुआ है। प्रशासन द्वारा चयनित जगह पर जब परिवार वाले शव को दफनाने पहुंचे तो गांव वालों ने इसका विरोध कर दिया। प्रशासन का कोई अधिकारी साथ ना होने से परिवार वालों को वहां से दूसरे गांव लौटना पड़ा। पर यहां भी गांव वालों का आक्रोश दिखा। परिवार शव को ट्रैक्टर पर लाद उसे दफनाने के लिए इधर-उधर भटकते रहे पर उन्हें जमीन नहीं मिली। फिलहाल कोरोना संक्रमित का शव ब्लॉक मुख्यालय के बाहर पड़ा हुआ है।

बताया जा रहा है कि कोरोना संक्रमित सियार टोली का रहने वाले 65 साल के एक व्यक्ति की मौत कोरोना से रविवार को गुमला सदर अस्पताल में हो गई थी। इसके बाद परिवार वाले संक्रमित का शव लेकर शाम 5 बजे बिशुनपुर पहुंचे और प्रशासन द्वारा चयनित श्मशान घाट मुदांर डैम ले गए। पर यहां मुंदार गांव और नजदीकी गांव के लोगों ने शव को दफनाने का विरोध कर दिया। इसी बीच एंबुलेंस ड्राइवर शव को वहीं छोड़ चलता बना। भारी विरोध देख परिवार ने ट्रैक्टर पर शव को लोड किया वहां से निकल गए। परिवार ने इसके बाद जेहन गुटवा गांव में शव को दफन करना चाहा पर यहां भी लोगों ने विरोध किया। थक हार कर परिजन शव को लेकर ब्लॉक मुख्यालय पहुंचे और अधिकारियों से लाश को दफनाने की मदद करने की गुहार लगाई। पर प्रखंड प्रशासन के कोई भी अधिकारी ने उनकी मदद नहीं की। फिलहाल ट्रैक्टर में शव प्रखंड मुख्यालय के बाहर पड़ा हुआ है।

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction