गुमला में हेल्थ वर्कर्स को देखते ही खदेड़ देते हैं ग्रामीण… मरीज ओझा और झोला छाप डॉक्टर के हवाले…

Share

सरकार जहां कोरोना को खत्म करने के लिए करोड़ों खर्च कर रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ व्यवस्था को ठिक करने के लिए मेडिकल किट भेजने से लेकर अस्पताल बनाए जा रहे हैं। वहीं गुमला के विशुनपुर में लोग बीमार पड़ने पर अस्पताल के बजाए घर में ही ओझा गुनी से झाड़-फूंक करा रहे हैं। इतना ही नहीं यहां वैक्सीन देने आए हेल्थ वर्कर्स को ग्रामीण गांव के बाहर खदेड़ दे रहे हैं। गांव वालों का कहना है कि कोविड-19 के इंजेक्शन लेने से 1 महिने के अदंर बुखार और मृत्यु हो जाती है। गुमला के मंजीरा गांव में एएनएम को देखते ही घंट पीटकर इकट्ठा हो गए और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को वहां से खदेड़ दिया।

बताया जा रहा है कि सर्दी बुखार आने पर लोग झोलाछाप डॉक्टर और ओझा गुनी का सहारा लेकर अपना इलाज घर पर ही करा रहे हैं। इसके कारण कई लोगों की अभी तक मौत भी हो चुकी है। कहा जा रहा है कि मंजीरा गांव टीकाकरण करने गए स्वास्थ्य कार्यकर्ता और एएनएम को गांव में घुसते देख ग्रामीणों ने घंटा बजाकर सब गांव वालों को इकट्ठे कर वहां से खदेड़ दिया। इसकी जानकारी मिलने के बाद प्रखंड प्रशासन मौके पर पहुंची और लोगों का समझाने का काम कर रही है।  वहीं बिशनपुर के बनालात गांव में एक बीमार युवक का 34 ओझा झाड़-फूंक कर रहे थे। जब प्रशासन को इसकी जानकारी मिली तो प्रखंड विकास पदाधिकारी चंदा भट्टाचार्य मौके पर पहुंची। प्रशासन की टीम को देखते ही ओझा फरार हो गए। आनन-फानन में युवक को अस्पताल तक पहुंचाया गया।

Facebook Comments Box