मैट्रिक-इंटर में आए नंबर से खुश नहीं छात्र तो दे सकेंगे इंप्रूवमेंट एग्जाम, फेल होने पर कंपार्टमेंटल का मौका

Share

झारखंड एकेडमिक काउंसिल की मैट्रिक और इंटर 2021 में जिन बच्चों ने परीक्षा में पास करने के बावजूद अपने रिजल्ट को इम्प्रूव करना चाहते हैं। वह इंप्रूवमेंट एक्जाम दे सकते हैं। वहीं, जो छात्र-छात्रा परीक्षा में पास नहीं कर पाते हैं उनके लिए अलग से कंपार्टमेंटल परीक्षा होगी। जैक इसकी तैयारी कर रहा है। जिस विषय में विद्यार्थी फेल है वह सिर्फ उसकी ही परीक्षा दे पाएंगे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की स्वीकृति के बाद जैक की ओर से जारी होने वाले गाइडलाइन में इसके प्रावधान किए जा रहे हैं।

बता दें 9वीं के आधार पर मैट्रिक और 11वीं के आधार पर इंटर का रिजल्ट तैयार होना है। नौवीं और 11वीं में अगर छात्र-छात्राओं को कम अंक आया था तो मैट्रिक और इंटर में भी उसी आधार पर अंक रहेंगे। विज्ञान के छात्रों को इसबार 70%, आर्ट्स-कॉमर्स के छात्रों को 80% नंबर मिलेंगे। इसपर छात्रों और अभिभावकों ने सवाल उठाये हैं कि ज्यादातर विद्यार्थी  9वीं-11वीं में मिले अंकों से ज्यादा मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में लाते हैं। ऐसे में रिजल्ट प्रभावित हो सकता है। वहीं मैट्रिक और इंटरमीडिएट के पुराने परीक्षार्थियों के लिए फिलहाल आधार तय नहीं किया गया है। जैक की कमेटी इसे भी तय करेगी। जो छात्र-छात्रा 2020 की मैट्रिक और इंटरमीडिएट की मुख्य परीक्षा और कंपार्टमेंटल दोनों में असफल हो गए थे और 2021 की परीक्षा के लिए आवेदन किया था, उनका रिजल्ट किस आधार पर तय होगा जैक को इसका फार्मूला निकालना होगा। क्या उनका भी रिजल्ट नौवीं और 11वीं के आधार पर तय होगा इस पर भी निर्णय लेना होगा। मैट्रिक में इस साल करीब 19,000 ऐसे छात्र-छात्राएं हैं जो पिछले साल पास नहीं कर सके थे। वहीं, इंटरमीडिएट में ऐसे छात्र छात्राओं की संख्या 17 हजार के करीब है।

1 2 3 93