पुलिस का अमानवीय चेहरा ….लाश को अपने गाड़ी के पीछे बांध थाने ले गई पुलिस

Share

रामगढ़ में मानवता को शर्मसार करने वाला मामाला सामने आया है।  पुलिस और मांडू सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का अमानवीय चेहरा देख स्थानीय लोग सकते में हैं। मंगलवार की देर रात राजकीय मध्य विद्यालय बलसगरा मोड़ फोरलेन के पास सड़क दुर्घटना हुई थी।  सड़क दुर्घटना में जान गवांने वाले बाइक सवार सीसीएल कर्मचारी के शव को पुलिस अपने गाड़ी के पीछे बांधकर स्ट्रेचर सहित घसीटते हुए ले गई। सीसीएल तापिन में काम करने वाले रामेश्वर राम (55वर्ष) मंगलवार को ड्यूटी कर अपनी बाइक से अपने घर लौट रहे थे। इसी दौरान बलसगरा मोड़ पर एक ट्रक ने सीसीएल कर्मचारी  तापिन को चपेट में ले लिया। घटनास्थल पर ही रामेश्वर की मौत हो गई। पुलिस ने क्षत विक्षत शव को स्ट्रेचर पर लादकर, स्ट्रेचर को अपने गाड़ी के पीछे बांध कर थाने ले गई। पुलिस को इस तरह से शव को ले जाते हुए देख स्थानीय लोग आश्चर्यचकित रह गये । जब इस पर पुलिस से सवाल किया गया तो पुलिस का कहना है एम्बुलेंस नहीं होने पर ऐसा किया गया। वहीं जब  एम्बुलेंस के बारे में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉ. अशोक राम से पुछा गया तो डॉ. अशोक राम ने अपना बचाव करते हुए कहा कि जिला प्रशासन ने डेढ़ साल पहले शव वाहन उपलब्ध कराया है। लेकिन इसे संचालित(Operate) करने के लिए न तो कोई कोष(Fund) उपलब्ध कराया गया है और ना ही ड्राइवर की व्यवस्था है।

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction