प्राइवेट स्कूल की तारीफ कर फंस गए मंत्री जी… शिक्षकों ने कहा बंद क्यों नहीं कर देते

Share

झारखंड के वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव प्राइवेट स्कूल पर दिए अपने बयान से विवदों में आ गए हैं. निजी स्कूल की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूल में छात्रों के लिए पढ़ने का माहौल नहीं हैं. शिक्षक संघ ने मंत्री रामेश्वर उरांव के इस बयान की निंदा की है. झारखंड अभिभावक संघ के अध्यक्ष अजय राय ने कहा कि हेमंत सरकार को शिक्षकों का वेतन रोक देना चाहिए, क्योंकि पहले से ही सरकारी स्कूलों में छात्रों की कमी है, मंत्री के बयान के बाद तो अभिभावक अपने बच्चों को कभी सरकारी स्कूलों में भेजेंगे ही नहीं. उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार को अगर मंत्री का बयान सही लगता है तो सरकारी स्कूलों को बंदकर शिक्षा का बजट प्राइवेट स्कूलों को दे देना चाहिए.

उधर अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के शिक्षक प्रतिनिधि सुनील कुमार ने कहा कि मंत्री जो सोचना चाहिए कि इन्हीं सरकारी स्कूलों में गरीब और कमजोर परिवार के बच्चे पढ़ने आते हैं. उन्होंने कहा सरकार ने ही सरकारी स्कूलों का स्तर गिरा दिया है. उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूल केक शिक्षकों को पढ़ाने का काम छुड़वाकर दूसरे सरकारी कामों में लगाया जाता है. जबकि प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों से ऐसे काम नहीं करवाए जाते हैं. उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों के पास ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए मोबाइल उपलब्ध हैं, जबकि गरीब छात्रों के पास नहीं हैं. ऐसे में मंत्री बताएं कि इन सबके लिए कौन जिम्मेदार है.

1 2 3 116
Facebook Comments Box