लातेहार में शिकार खेलने गये युवक को पुलिस ने मार दी गोली…

Share

लातेहार के गारू के पिरी जंगल में पुलिस के हाथों नक्सली के भ्रम में एक युवक मारा गया। इसको लेकर इलाके के लोगों ने जमकर बवाल किया और पुलिस टीम को घेर लिया। गांव वालों का आरोप है कि पुलिस ने शिकार पर निकले युवक को मार डाला और उसे मुठभेड़ का नाम दे रही है। वहीं लातेहार के एसपी ने भी स्वीकार किया है कि इस घटना में मारा गया युवक नक्सली नहीं है। उन्होंने कहा है कि घटना की जांच हो रही है और ग्रामीणों के साथ न्याय होगा।

बता दें कि पुलिस को नक्सली दस्ते के होने की सूचना मिली थी। इस सूचना के आधार पर शनिवार की सुबह सुरक्षा बल के जवान जंगलों में तलाशी अभियान चला रहे थे। इसी दौरान सुरक्षा बलों की शिकार पर निकले युवकों की टोली से मुठभेड़ हो गई। इस घटना में गोली लगने से ब्रह्मदेव सिंह की मौत हो गई जबकि एक अन्य ग्रामीण घायल हो गया। उसके हाथ में गोली लगी है। पुलिस ने चार अन्य युवकों को कब्जे में ले लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। बताया जा रहा है कि ग्रामीण युवकों के पास से सात देसी बंदूकें बरामद की गई हैं। लातेहार के एसपी प्रशांत आनंद का कहना है कि सीआरपीएफ और जगुआर की टीमें अलग-अलग टुकड़ियों में बंटकर तलाशी अभियान पर निकली हुई थीं। इसी दौरान ग्रामीण युवक हथियार लेकर जंगल की ओर जा रहे थे। पुलिस ने उन्हें सरेंडर करने के लिए कहा लेकिन उन्होंने पुलिस की बात नहीं मानी और गोली चला दी। जवाब में पुलिस ने भी फायरिंग की जिससे एक युवक की मौत हो गई। एसपी ने कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। वहीं इस घटना के बाद आसपास के गांव वाले एकजुट हो कर पुलिस के प्रति रोष जताने लगे। गांववालों ने जंगल में मुठभेड़ स्थल तक जाने का भी कई बार प्रयास किया। ग्रामीण मृतक के परिजनों को 10 लाख रुपये और आश्रित को सरकारी नौकरी देने की मांग पर अड़े हुए थे। बाद में लातेहार से पुलिस की टीम पहुंची और और मुठभेड़ करने वाली सुरक्षा बलों को टीम को लेकर गारू प्रखंड पहुंची।

You need to add a widget, row, or prebuilt layout before you’ll see anything here. 🙂