पूर्व विधायक की अपने ही आवास संदेहास्पद स्थिति में मौत… बगल में बेसुध पड़ी पत्नी की स्थिति गंभीर… दरवाजा तोड़कर निकाला गया शव

Share

लोहरदगा के पूर्व विधायक कमल किशोर भगत की शुक्रवार को संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई है। अपने कमरे में वे मृत पाए गए हैं। जबकि उनके बगल में उनकी पत्नी नीरू शांति भगत बेसुध पड़ी थी। उन्हें बेहतर इलाज के लिए रांची रेफर किया गया है। बता दें पूर्व विधायक कमल किशोर भगत ने अपनी सुरक्षा बढ़ाने को लेकर 7 दिसंबर 2020 को DGP को पत्र लिखा था। तब उन्होंने कहा था कि उनकी जान का खतरा है।

कमल किशोर भगत के चचेरे भाई अजीत टाना भगत ने बताया कि पिछले कुछ महीनों से वे बीमार चल रहे थे। रात में सभी साथ में खाना खाए थे। खाना खाकर वे अच्छी तरह बातचीत कर के अपने कमरे में सोए थे। उन्होंने बताया कि सुबह 9 बजे हर रोज की तरह जब उन्होंने कमरा खुलवाया तो वे कमरा नहीं खोले। आखिर में पैर से धक्का मार कर दरवाजा खोला। अंदर देखा तो कमल किशोर भगत पूरी तरह अचेत थे। उनकी पत्नी भी बेसुध जमीन पर लेटी थी। लेकिन उनकी सांसें चल रही थी। आनन-फानन में दोनों लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। यहां डॉक्टर ने कमल किशोर भगत को मृत घोषित कर दिया। पार्टी के विधायक लंबोदर महतो ने कहा कि कमल किशोर भगत की मौत AJSU के साथ पूरे झारखंड के लिए बड़ी क्षति है। राज्य के सृजन में उनका बड़ा योगदान है। गरीब, दलित, मजदूरों की आवाज के रूप में उनकी भूमिका रही है। उन्होंने बताया कि पार्टी के पदाधिकारी लोहरदगा पहुंच गए हैं। वहा जाकर सारी तहकीकात के बाद ही बता पाएंगे कि उनकी मौत कैसे हुई है। कमल किशोर भगत झारखंड की लोहरदगा सीट से आजसू पार्टी के विधायक रहे हैं।उन्होंने 2009-2019 तक विधानसभा का प्रतिनिधित्व किया था। झारखडं को अल राज्य बनाने के आंदोलन में भी उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

1 2 3 179
Facebook Comments Box