8 अप्रैल को होनी थी शादी… 7 को ही पहुंच गई पुलिस… नाबालिग बहू बनने से बच गई

Share

18 साल से कम उम्र की लड़की और 21 साल के कम उम्र के लड़के की शादी की शादी करना गैरकानूनी है। बावजूद इसके कोडरमा का एक परिवार अपनी 14 साल की बेटी की शादी करने जा रहा था। मामला कोडरमा के डगरनवां पंचायत के फुटलाही गांव का है। जहां के एक परिवार ने अपने बेटी की शादी गिरिडीह जिले के तीसरी प्रखंड में तय की थी। 8 अप्रैल को बारात आने वाली थी। बाल विवाह की खबर एनजीओ कैलाश सत्यार्थी फाउंडेशन तक पहुंची तो, इसके सदस्यों ने प्रशासन को इसकी सूचना दी। जिसके बाद प्रशासन की टीम बारात आने से एक दिन पहले 7 अप्रैल को ही नाबालिग बच्ची के घर पहुंच गई।

प्रशासन के लोगों ने परिवार के लोगों को समझाया कि बाल विवाह करना गैर कानूनी है। प्रशासन ने परिवार के लोगों इस उम्र में शादी नहीं करने के लिए मनाया। प्रशासन के समझाने के बाद परिवार शादी रोकने पर राजी हुआ। परिवार के लोगों ने भी प्रशासन को भरोसा दिया है है कि लड़की के बालिग होने तक वो इसकी शादी नहीं करेंगे।

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction