एनआईए के हाथ अब भी खाली…मोस्ट वांटेड होने के बाद भी नहीं हो सकी गिरफ्तार कुख्यात मानव तस्कर की पत्नी

Share

झारखंड में मानव तस्करी के मामलों की जांच कर रही एनआइए कुख्यात मानव तस्कर पन्ना लाल की पत्नी सुनीता देवी को अबतक गिरफ्तार नहीं कर पाई है. खूंटी के मुरहू की रहने वाली सुनीता देवी को एनआइए ने कांड संख्या 09/2020 में मोस्ट वांटेड घोषित कर रखा है. बता दें कि खूंटी पुलिस ने 18 जून 2019 को पन्ना लाल को गिरफ्तार किया था. पन्ना लाल और उसकी पत्नी सुनीता साल 2003 से ही मानव तस्करी कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने 100 करोड़ की संपत्ति बनाई है. पन्ना लाल झारखंड समेत ओडिशा के विभिन्न जिलों से बच्चों को काम दिलाने के नाम पर बाहर ले जाकर बेच देता था. इसके लिए खासकर सुदूरवर्ती इलाकों के आदिवासी बच्चों को निशाना बनाता था, जो काफी गरीब परिवार से आते थे. बता दें झारखंड में मानव तस्करी की एनआइए जांच कर रही है. एनआइए मुख्यालय ने झारखंड के बड़े मानव तस्कर माने जाने वाले पन्नालाल के खिलाफ दर्ज मामले की जांच टेकओवर करने की गुजारिश झारखंड पुलिस से की थी. एनआइए ने टेकओवर करते हुए जांच शुरू कर दी थी. पन्ना लाल के खिलाफ खूंटी की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट में छह अगस्त 2018 को प्राथमिकी दर्ज की गई थी. एनआइए ने इसी प्राथमिकी को टेकओवर करते हुए दो मार्च 2020 को प्राथमिकी दर्ज की है. इस मामले को लेकर एनआइए ने कांड संख्या 1/2020 दर्ज किया है. एनआईए जांच के दौरान पता चला कि आरोपी पन्ना लाल महतो और उसकी पत्नी सुनीता देवी दिल्ली में तीन प्लेसमेंट एजेंसियों की आड़ में इस मानव तस्करी रैकेट को चला रहे थे. वे झारखंड के गरीब और निर्दोष नाबालिग लड़कों और लड़कियों को दिल्ली और पड़ोसी राज्यों में नौकरी दिलाने के बहाने लेकर आते थे, लेकिन उन्हें कभी वेतन नहीं दिया.

1 2 3 157
Facebook Comments Box