एनआईए का वांडेट नक्सली सिंघराय सोरेन गिरफ्तार…

Share

गिरिडीह से एनआईए ने 50 हजार इनामी नक्सली को गिरफ्तार किया है। गिरिडीह जिले के अकबकीटांड गांव से नक्सली सिंघराय सोरेन की गिरफ्तारी हुई है। बताया जा रहा है कि 5 मार्च 2018 को गिरिडीह के के अकबकीटांड गांव में भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद के साथ 15 माओवादियों के गिरफ्तार कि या गया था। इसी मामले में सिंघराय सोरेन को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में लंबे समय से एनआईए को उसकी तलाश थी।एनआईए ने उसके ऊपर 50 हजार इनाम घोषित किया था।

नक्सल विरोधी अभियान में गिरिडीह के तत्कालीन एसपी सुरेंद्र कुमार झा के नेतृत्व में पुलिस/ सीआरपीएफ/झारखंड जगुआर को ज्वाइंट ऑपरेशन में बीते 5 मार्च 2018 को एक बड़ी सफलता मिली थी। पुलिस ने तीन इनामी नक्सली सहित 15 नक्सलियों को गिरफ्तार किया था। तीनों इनामी नक्सली के नाम चार्ली (5 लाख) सोहन भुइंया (5 लाख) और सुनील मांझी (25 लाख) है। इन नक्सलियों के पास से 12 हथियार, कारतूस और आरडीएक्स-हैंडग्रेनेडस बरामद किये गये थे। वहीं पुलिस ने 300 आधार कार्ड भी बरामद किया थे।

इस मामले में 6 मार्च 2018 को गिरिडीह के डुमरी थाना में कांड संख्या 26/2018 दर्ज हुआ था। जिसे एनआईए ने 9 मई 2018 टेकओवर करते हुए कांड संख्या आरसी 19/2018 दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू की थी। इस मामले में एनआईए ने 31अगस्त 2018 सिंघराय सोरेन समेत 10 नक्सलियों के खिलाफ़ चार्जशीट दायर किया था। जिसके बाद एनआईए ने 8 जनवरी 2019 को सात नक्सलियों के खिलाफ़ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर किया था।

एनआईए को खबर मिली थी कि नक्सली सिंघराय सोरेन अकबकीटांड़ गांव में छिपा है। जब एनआईए और पुलिस की टीम छापेमारी करने पहुंची तब पुलिस को देखकर वह जंगल को ओर भागने लगा। पुलिस ने उसका पीछा किया और पकड़ लिया। एनआईए ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि सिंघराय सोरेन माओवादी का एक सशस्त्र कैडर है, नक्सल गतिविधियों को बढ़ावा देने के इरादे माओवादी के अन्य सदस्यों के साथ आपराधिक साजिश रची थी। वह हथियार और गोला-बारूद और विस्फोटक पदार्थ छुपाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता था।

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction