30 साल बाद परिवार से मिला बुजुर्ग… 3 हजार किलोमीटर दूर टापू में फंस गए थे

Share

60 साल के फुचा महली ने 30 साल बाद गुमाल में अपने परिवार से मुलाकात की. फोरी गांव के रहने वाले फुचा महली नौकरी की तलाश में अंडमान निकोबार पहुंच गए थे. इसके बाद करीब 30 साल तक वो वहीं फंसे रहे. अंडमान निकोबार में वो बंधुवा मजदूरी कर रहे थे. सरकार तक जब इस बात की खबर पहुंची तो उन्हें झारखंड लाने की पहल की गई. सरकार का प्रयास सफल हुआ और उन्हें अंडमान निकोबार से शुक्रवार को झारखंड लाया गया. रांची पहुंचने के बाद फुचा महली और उनके परिवार ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाता की और उनका धन्यबाद दिया.

फुचा महली जब अपने परिवार से मिले तो वो भावुक हो गए. उनके आंखों से आंसू बहने लगे. 30 साल बाद अपने पिता से मिलकर फुचा महिला का बेटा रंथु महली भी भावुक हो गया. घर पहुंचने पर पत्नी लुंदी देवी ने उनके पैर झूकर स्वागत किया. पैर धोकर उन्हें घर में प्रवेश कराया गया. इस दौरान गांव के लोग भी फुचा महली को देखने पहुंचे. गांव में उन्हें देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई.

1 2 3 116
Facebook Comments Box