रिम्स के कैंटीन बड़ी लापरवाही… हर रोज यहां करीब 110 लोग खाते है खाना…

Share

झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में एक बार फिर से लापरवाही सामने आई है। मंगलवार को रिम्स के कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रहे हैं कर्मी के खाने में छिपकली मिली, जिसके बाद कर्मियों ने खाना खाने से इंकार कर दिया। बताया जा रहा है कि रिम्स के ट्रामा सेंटर में कार्यरत वेंटीलेटर टेक्नीशियन ने रिम्स कैंटीन से दोपहर का खाना लिया था। खाने के दौरान जब उसने दाल के पैकेट को खोला तो उसमें मरी हुई छिपकली मिली। दाल में छिपकली देखते ही उसने कैंटीन संचालक को बुलाकर इसकी जानकारी दी, जिसके बाद कई पारा मेडिकल कर्मियों ने खाना नहीं खाया।

जब के एडिशनल डायरेक्टर वाघमारे प्रसाद कृष्ण को दाल में मरी हुई छिपकली की जानकारी मिली तो उन्होंने कैंटीन का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कैंटीन में बनने वाले खाने की वस्तुस्थिति को देखा और गुणवत्ता की भी जानकारी ली। साथ ही साफ-सफाई की व्यवस्था का भी जायजा लिया। बता दें रिम्स में कोरोना वार्ड में ड्यूटी करने वाले डॉक्टर, नर्स और अन्य कर्मचारियों को प्रबंधन के द्वारा भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। रिम्स के पेइंग वार्ड में बने कैंटीन से हर रोज करीब 110 लोगों को भोजन दिया जाता है।

1 2 3 72

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction