कोरोना ने नक्सल अभियान पर लगाया ब्रेक… पुलिसकर्मियों में कोरोना संक्रमण बढ़ा…

Share

झारखंड में कोरोना संक्रमण फैलने के बाद नक्सल प्रभावीत जिलों में चल रहे अभियान पर ब्रेक लग गया है। सिर्फ स्थानीय स्तर पर पुलिस नक्सलियो के गतिविधि की मॉनिटरिंग कर रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि, राज्य पुलिस मुख्यालय और स्पेशल ब्रांच में कोरोना संक्रमण फैलने के कारण भी नक्सलियो के खिलाफ कोई रणनीति नहीं बन पा रही है। स्पेशल ब्रांच में नक्सल अभियान और एसआईबी (स्पेशल इंटेलीजेंस ब्यूरो) की प्रभारी एसपी शिवानी तिवारी भी कोरोना संक्रमित हो गई हैं। नक्सल ब्रांच में सूचना जुटाने के लिए काम करने वाले कई पुलिसकर्मी भी संक्रमित हैं, ऐसे में नक्सलियो के खिलाफ अभियान पर रणनीतिक काम नहीं हो पा रहा है। बताया जा रहा है कि  डीजीपी नीरज सिन्हा स्वयं भी संक्रमित हैं, ऐसे में नक्सलियो के खिलाफ बड़े अभियान पर काम नहीं हो पा रहा है।

झारखंड में साल 2020 में कोरोना लॉकडाउन के बाद से माओवादी संगठन ने खुद को मजबूत किया है। कैडर की कमी से जुझ रहे नक्सलियो को नए कैडर मिले हैं। वहीं हथियार को लेकर कमी झेल रहे नक्सली संगठन के पास अब हथियार भी हैं। झारखंड के भाकपा माओवादियों ने बीते एक साल में जन मिलिशिया को काफी मजबूत किया है। पुलिस अभियान पर ब्रेक लगने से नक्सलियो को अंदरूनी तौर पर मजबूत होने में मदद मिल रही है। हाल के दिनों में नक्सलियो ने सीधी मुठभेड़ के बजाय छद्म तरीके से सुरक्षाबलों को आईइडी लगाकर शिकार बनाया है।

मंगलवार को चाईबासा एसपी अजय लिंडा ने नक्सल प्रभाव वाले इलाकों दड़कदा, झरझरा, हरजोड़ा, होयोहातू, चिटपल, पदमपुर का दौरा किया। नक्सल प्रभाव वाले इलाकों में एसपी ने गांव वालों से बात किया। गौरतलब है कि हाल के दिनों में लांजी इलाके में पुलिस बलों पर हमला हुआ था, साथ ही झरझरा में भी सड़क निर्माण में लगी कंपनी की गाड़ियों जला दी गई थी। एसपी के साथ सीआरपीएफ 60 बटालियन के आनंद जेराई, जुल्फीकार अली, एसडीपीओ सुधीर कुमार भी मौजूद थे।

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction