कर्ज़माफ़ी के नाम पर हेमंत सरकार  की हो रही फ़ज़ीहत

Share

झारखंड में झामुमो और कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार द्वारा किसानों  को कर्ज़माफ़ी के नाम पर सिर्फ़ झुनझुना थमा दिया गया है। विपक्ष सरकार के किसानों से किये गए वायदे को फ़ेल बता रहा है। दरअसल 9 लाख किसानों को कर्ज़माफ़ी की सौगात देने वाली सूबे की हेमंत सरकार 31 मार्च तक सिर्फ़ 1 लाख 95 हज़ार 755 किसानों का ही कर्ज़ माफ़ कर पाई है। राज्य में कर्ज़ माफ़ी के लिए तय बजट लगभग 786 करोड़ का रखा गया है। कर्ज़ माफ़ी के नाम पर 2 हज़ार करोड़ रुपयों का बजट रखने वाले कृषि विभाग ने पहले 1 हज़ार करोड़ रुपये दिए। उसके बाद बचे हुए 1 हज़ार करोड़ में भी करीब 214 करोड़ रुपये खर्च नही किये। कर्ज़ माफी के नाम पर अब तक 5 लाख किसानों के डेटा एंट्री के काम को पूरा किया जा चुका है। जिसमे से अभी 2 लाख किसानों के EKYC की प्रक्रिया भी पूरी की जा चुकी है। जिसमे देवघर के करीब 19 हज़ार किसानों का कर्ज़ा माफ़ किया जा चुका है, जबकि गिरिडीह,रांची,चाईबासा के भी हज़ारों किसानों का कर्ज़ा माफ़ किया जा चुका है। अभी तक सबसे कम साहेबगंज के किसानों का कर्ज़ा माफ़ किया गया है।