भोजपुरी, मगही पर हेमंत सोरेन का हमला… बोले झारखंड की भाषा नहीं… ये भाषा बोलने वालों ने किया अत्याचार

Share

एक इंटरव्यू में झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने भोजपुरी और मगही को स्थानीय भाषा मानने से इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि भोजपुरी और मगही कभी झारखंड की भाषा रही ही नहीं. यहीं नहीं उन्होंने कहा कि आंदोलन के दिनों में भोजपुरी बोलने वाले लोग झारखंड के लोगों पर अत्याचार करते थे. उन्होंने कहा कि जो लोग भोजपुरी,मगही बोलते हैं वे सभी डॉमिनेटिंग पर्सन हैं. आंदोलनकारियों के छाती पर पैर रख, महिलाओं की इज्जत लूटते वक्त भोजपुरी में ही गाली दी जाती थी,मगही-भोजपुरी झारखण्डी भाषा नहीं,राज्य का बिहारीकरण नहीं होने देंगे.

उधर बीजेपी विधायक भानु प्रताप शाही ने सीएम सोरेन के भोजपुरी और मगही पर दिए बयान पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि सीएम सोरेन उर्दू , उड़िया और बंगाली को झारखंडी भाषा बता रहे हैं जबकि भोजपुरी, मगही, अंगिका को बिहारी भाषा बोल रहे हैं. उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन को ऐसा बोलने में शर्म आनी चाहिए

1 2 3 116
Facebook Comments Box