दान में पुराना फोन मांग रही है झारखंड पुलिस…जानिए इसका होगा क्या?… इस मुहिम से जुड़ेंगे तो आपको अच्छा लगेगा

Share

कोरोना ने बच्चों की पढ़ाई को गुड़-गोबर कर दिया है। स्कूल-कॉलेज बंद है, जो पढ़ाई हो रही है वो ऑनलाइन। ऑनलाइन पढ़ाई के लिए स्मार्ट फोना होना जरूरी है। जो लोग संपन्न है, वो अपने बच्चों की पढ़ाई स्मार्ट फोन से करवा रहे हैं। लेकिन सोचिए गांव में जिनके मां-बाप खेती करते हैं या शहर में जो मजदूरी करते हैं, रिक्शा चलते हैं, छोटा मोटा काम करते हैं। पेट भर खाना नसीब नहीं होता वो स्मार्ट फोन क्या नॉर्मल फोन भी नहीं खरीद सकते हैं। लॉकडाउन में ऐसे ही कारोबार ठप है। खाने-कमाने का संकट है। ऐसे ही परिवार के बच्चें के लिए ये मुहिम झारखंड पुलिस ने चलाई है।

इस भी पढ़ें :  जमशेदपुर की तुलसी 12 आम 1.20 लाख में बिके, पढ़ाई के लिए चाहिए था स्मार्ट फोन

झारखंड के सिर्फ सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले ऐसे करीब 40 लाख बच्चे हैं, जिनके पास ऑनलाइन पढ़ाई करने की कोई सुविधा नहीं है। ना स्मार्ट फोन, ना ही लैपटॉप है। ऐसे गरीब बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन शुरू हो सके इसके लिए झारखंड पुलिस एक मुहिम चला रही है। झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा ने इसके लिए सभी जिलों के एसएसपी-एसपी से अपील की है, कि लोगों को अपना स्मार्ट फोन दाम देने के लिए प्रेरित किया जाए। ताकि लोगों से लिया पुराना स्मार्ट फोन गरीब बच्चों तक पहुंचाया जा सके। जिससे बच्चे ऑनलाइन अपनी पढ़ाई कर सकें। ऐसे बच्चों की पढ़ाई करीब डेढ़ साल से बाधित है। झारखंड जंक्शन भी आपसे अपील करता है कि पुलिस की इस मुहिम में अपना सहयोग दें।

1 2 3 93