शिक्षा विभाग की लापरवाही… अधर में 7 लाख छात्रों का भविष्य…

Share

शिक्षा विभाग की लापरवाही लाखों छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है. झारखंड एकेडमिक काउंसिल (JAC) के चेयरमैन और वाइस चेयरमैन के सेवानिवृत्तर होने के लगभग 25 दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक किसी की नियुक्ति नहीं हो पाई है. नियमानुसार जब तक चेयरमैन की नियुक्ति नहीं हो जाती है, तब तक एकेडमिक काउंसिल में कोई काम नहीं हो सकता है. जिसका सीधा असर JAC के कार्यों पर पड़ा रहा है।

विभाग दिसंबर में इंटर और मैट्रिक की एक परीक्षा का आयोजन करने की तैयारी कर रहा है। इस परीक्षा का सीधा असर 7 लाख छात्रों के फाइनल मार्क्सीट पर पड़ेगा। लेकिन अक्टूबर का लगभग आधा महीना बीत जाने के बाद भी रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं हो पाई है। JAC के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का पद 15 सितंबर को खाली हुआ था। इसके बाद शिक्षा सचिव ने JAC सचिव को रिजल्ट के लिए अधिकृत किया था। इसके बाद सभी पेंडिग रिजल्ट को देरी से जारी किया गया था। अब ऐसी संभावना जताई जा रही है कि दुर्गापूजा के बाद ही चेयरमैन की नियुक्ति हो पाएगी। ऐसे में लगभग 7 लाख छात्रों का रजिस्ट्रेश करने के लिए JAC के पास केवल एक महीने का समय होगा।

1 2 3 150
Facebook Comments Box