19 जिलों में शुरू हुईं नई स्वस्थ्य सेवाएं… CM सोरेन ने किया शुभारम्भ…

Share

रांची। CM हेमंत सोरेन और स्वास्थ्य मंत्री पन्ना गुप्ता ने बुधवार को राज्य के 19 जिले के अस्पतालों सहित रिम्स में नई स्वास्थ्य सेवाओं का उद्घाटन किया. इन स्वास्थ्य सेवाओं में 19 जिले में 27 पीएसए आक्सीजन प्लांट सुविधा और नए रिम्स ट्रॉमा सेंटर में एक केंद्रीय प्रयोगशाला शामिल है। उन्होंने रेडिलॉजी जांच के लिए एडवांस सिटी स्कैन मशीन, पीएसए प्लांट और कोविड जांच के लिए कोबास मशीन का भी लोकार्पण किया। वह पहले पीएसए ऑक्सीजन सुविधा खोलने के लिए सदर अस्पताल आए थे। लुटो कोबास को दुमका मेडिकल कॉलेज में पेश किया गया। रिम्स और रांची के सदर अस्पताल को छोड़कर अन्य जिलों में ऑनलाइन सुविधाएं शुरू की गई हैं।

मुख्यमंत्री उद्घाटन के मौके पर कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को राज्य में बेहतर बनाने की दिशा में पहल की गई है। राज्य की जनता को हर सुविधा मुहैया कराने के लिए सरकार वचनबद्ध है। इसके अलावा लापुंग और तमाड़ के लिए सीएचसी के लिए 10 एंबुलेंस दी गई। इसे रिम्स परिसर से स्वास्थ्य मंत्री ने हरी झंडी देकर रवाना किया।

यहां दी गईं ये सुविधाएं :

-रिम्स में सीटी स्कैन, सेंट्रल पैथोलॉजी, कोबास मशीन सहित जिला अस्पतालों में पीएसए प्लांट शुरू

-सदर अस्पताल रांची में 100 लीटर प्रति मिनट क्षमतावाले ऑक्सीजन प्लांट

-रिम्स की सेवाओं के साथ जिला अस्पतालों में पीएसए ऑक्सीजन प्लांट शुरू

-रिम्स के सेंट्रल पैथोलॉजी में 24 घंटे होगी पैथोलॉजी की जांच

यहां मिला आक्सीजन प्लांट :

रिम्स रांची

धनबाद मेडिकल कालेज

एमजीएम, जमशेदपुर

सदर अस्पताल रांची

सदर अस्पताल गढ़वा

सदर अस्पताल गिरिडीह

सदर अस्पताल गोड्डा

सदर अस्पताल गुमला

सदर अस्पताल हजारीबाग

सदर अस्पताल खूंटी

सदर अस्पताल लातेहार

सदर अस्पताल लोहरदगा

सदर अस्पताल पाकुड़

पलामू मेडिकल कॉलेज

सदर अस्पताल रामगढ़

सदर अस्पताल साहेबगंज

सदर अस्पताल सरायकेला

सदर अस्पताल चाईबासा

जांच होगी सस्ती  

निजी लैब की तुलना में काफी कम खर्च पर ही स्तरीय जांच की सुविधा रिम्स में मिल जाएगी। जो जांच निजी लैब में 500 रुपये में होती है उस जांच के लिए रिम्स में 40 से 80 प्रतिशत से भी कम पैसा देना होगा। इसमें उसमें सीबीसी टेस्ट, लिवर फंक्शन टेस्ट, आरएफटी, थायराइड प्रोफाइल, लिपिड प्रोफाइल, यूरिया, कंपलीट हीमोग्राम पैथोलोजिकल जांच किये जायेंगे। इन जांचो का प्रइवेट में प्रत्येक टेस्ट में 150 से 250 रूपये तक मरीजों को देने पड़ते है। पैथोलॉजी के शुरू होने से इनमें से आधे दर्जन टेस्ट रिम्स में सभी के लिए मुफ्त किया गया है।

पाथ-वे से मरीजों को लैब  लाया जा सकेगा

रिम्स के पुराने बिल्डिंग के वार्ड में भर्ती मरीज को नए ट्रॉमा सेंटर में रेडियोलॉजी जांच के लिए आने में अधिक परेशानी नहीं उठानी होगी। मरीज को पुराने बिल्डिंग से नए ट्रॉमा सेंटर में पाथ वे से लाया जाएगा। जो दोनों बिल्डिंग को सड़क के ऊपर से जोड़ती है। इसके अलावा पैथोलॉजी जांच के लिए मरीजों के बेड पर जाकर कलेक्शन किया जाएगा। जिसकी रिपोर्ट 24 घंटे में देने का दावा किया जा रहा है।

1 2 3 179
Facebook Comments Box