रघुवर दास के ‘राज्यसभा चुनाव 2016’ की जांच तेज… सवालों में बाबूलाल मरांडी के हस्ताक्षर…

Share

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के राज्यसभा चुनाव 2016 की जांच को लेकर रांची पुलिस की करवाई तेज हो चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को अप्राथमिक अभियुक्त बनाए जाने के बाद रांची पुलिस इस मामले में वोट को प्रभावित करने से जुड़ी सभी साक्षी को इकट्ठा करने में जुटी हुई है। इस मामले में पुलिस अब झारखंड के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के हस्ताक्षर का भी मिलान करवाएगी।

एडीजी सीआईडी की समीक्षा के बाद केस के अनुसंधानकर्ता को आदेश दिया गया है कि वह बाबूलाल मरांडी के द्वारा चुनाव आयोग को दिए गए मूल आवेदन को प्राप्त करें। इसके बाद उस पर दिखायी पड़ रहे बाबूलाल मरांडी के हस्ताक्षर पर हैदराबाद स्थित हैंडराइडिंग विशेषज्ञ से ओपिनियन लें और उनके मूल हस्ताक्षर से मिलान करें। गौरतलब है कि राज्यसभा चुनाव में वोटों को प्रभावित करने के मामले में बाबूलाल मरांडी ने ही ऑडियो सीडी जारी कर इस मामले में चुनाव आयोग से शिकायत की थी। इसके बाद आयोग ने एफआईआर दर्ज करने का निर्देश राज्य सरकार को दिया था। केंद्र सरकार के पूर्व मंत्री सुबोधकांत सहाय ने अपने बयान में स्वीकार किया था कि बाबूलाल मरांडी की ओर से जो पत्र आयोग को भेजा गया था, उसपर उन्होंने भी अपने हस्ताक्षर किए थे। बता दें साल 2016 में राज्यसभा चुनाव के बाद बाबूलाल मरांडी ने एक ऑडियो टेप जारी किया था। इस टेप में एडीजी अनुराग गुप्ता, तत्कालीन विधायक निर्मला देवी, उनके पति योगेंद्र साव के बीच बातचीत की बात सामने आई थी। मामला सामने आने के बाद पूरे मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की गई थी। जांच के बाद आयोग ने एफआईआर का आदेश दिया था। गृह विभाग के अवर सचिव अवधेश ठाकुर के बयान पर सरकार ने तब मामला दर्ज करवाया था। इस मामले में फरवरी महीने में अनुराग गुप्ता के निलंबन के बाद राज्य सरकार ने विभागीय कार्रवाई शुरू की थी।

1 2 3 74

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction