रांची में बारात के साथ धरने पर बैठा दूल्हा… वरमाला और फेरों के बाद लड़की, बोली- ‘नहीं करूंगी शादी’,

Share

रांची के धुर्वा एक शादी समारोह में अजीबोगरीब घटना हुई। एक लड़की ने वरमाला कर सात फेरे लेकर शादी से तब इनकार कर दिया, जब सिंदूर दान की विधि संपन्न होनी थी। लड़की का यूं अचानक शादी से इनकार करना किसी को समझ ही नहीं आया। सिंदूर दान की विधि के बीच ही लड़की मंडप से उठ कर चली गई। दुल्हन ने कहा कि उसे दूल्हा पसंद नहीं है, इसलिए वह शादी नहीं करेगी। इस घटना के बाद शादी समारोह में अफरातफरी मच गई।

हर तरफ लड़की के मंडप से उठकर जाने की चर्चा चल रही थी। तभी दूल्हा बारात के साथ धरने पर बैठ गया और इस बात पर अड़ गया कि या तो अब ये शादी होगी या फिर उसे इस समारोह में खर्च हुई पूरी राशि लौटाई जाए। करीब चार घंटे की मशक्कत के बाद दुल्हन पक्ष के लोगों ने लिखित में दिया कि वह शादी का खर्च लौटा देंगे। जिसके बाद दूल्हे को बिना शादी के ही बारात के साथ वापस लौटना पड़ा। दरअसल, मांडर इलाके के रहने वाले विनोद लोहरा की शादी धुर्वा के मौसीबाड़ी की रहने वाली चंदा से होनी थी। तय तारीख के अनुसार विनोद 29 जून को बरात लेकर चंदा को ब्याहने उसके घर पहुंचा। शादी की लगभग आधी रस्में हो चुकी थीं। वरमाला पड़ चुकी थी, सात फेरे भी हो गए, लेकिन जैसे ही सिंदूर दान की बारी आई, लड़की मंडप से उठकर चली गई। दुल्हन के यूं अचानक मंडप से उठने पर हर कोई हैरान रह गया। जिसके बाद लड़की के मां-बाप उसे समझाने पहुंचे। तब लड़की ने अपने मां-बाप से कहा कि उसे लड़का पसंद नहीं है। इस पर पूरी रात लड़की को मनाने का सिलसिला जारी रहा। लेकिन, लड़की अपनी जिद पर अड़ी रही। जिसके बाद लड़की के मां-बाप ने दूल्हे और बारात को इस बारे में सूचित किया। दूसरी तरफ दुल्हन द्वारा शादी से इनकार करने के बाद लड़का पक्ष वाले धरने पर बैठ गए। उन्होंने कहा कि जब तक शादी में हुए खर्च की एक-एक पाई उन्हें नहीं मिल जाती वे यहां से नहीं जाएंगे। बुधवार सुबह दुल्हन पक्ष के लोग उन्होंने लिखित रूप से आश्वासन दिया कि वह खर्च की राशि धीरे-धीरे करके लौटा देंगे। इसके बाद बारात वापस हुई।  

1 2 3 150
Facebook Comments Box