वैक्सीनेशन पर हेमंत सरकार में कन्फ्यूजन- सीएम ने बताया वरदान, स्वास्थ्य मंत्री का केंद्र पर वार

Share

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जहां पीएम मोदी ने आज दुनिया के सबसे बड़े महाअभियान की शुरुआत कर दी है, वैक्सीनेशन को जिस तरह से केंद्र सरकार ने एक इवेंट की तरह लिया है, उससे विरोधियों को समझ नहीं आ रही है.. कि रियेक्ट क्या किया जाए, लिहाजा राजधानी रांची में वैक्सीनेशन के एक ही सेंटर पर पहुंचे सीएम हेमंत सोरेन और स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के बयानों में विरोधाभास दिखा। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को वैक्सीनेशन के पहले दिन कोरोना वैक्सीन नहीं लगने का मलाल है, वैक्सीनेशन की शुरुआत के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि उन्होंने केंद्र सरकार से खुद को वैक्सीन लगवाने के लिए पत्र और ईमेल दोनों ही किए थे, लेकिन केंद्र सरकार से उन्हें इसकी इजाजत नहीं मिली, केंद्र सरकार को घेरते हुए स्वास्थ्य मंत्री गुप्ता ने कहा

केंद्र सरकार स्वास्थ्य मंत्री को स्वास्थ्य विभाग का कर्मचारी नहीं मानती, अगर मानती को मुझे वैक्सीन लगवाने की इजाजत दे दी गई होती

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता

उधर सीएम हेमंत सोरेन वैक्सीनेशन अभियान से खासे खुश दिखे, सीएम हेमंत सोरेन ने कहा

वैक्सीनेशन के दौरान केंद्र की सभी गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है, और मुझे भरोसा है कि देश के वैज्ञानिकों की मेहनत से कोरोना को जल्द खत्म किया जाएगा

सीएम हेमंत सोरेन

रांची के सदर अस्पताल में वैक्सीनेशन कार्यक्रम में शामिल होने को मुख्यमंत्री ने अपने लिए सौभाग्य बताया।

कोरोना वैक्सीन पर सीएम सोरोन और स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता दोनों की अलग अलग राय है। इसी कड़ी में झारखंड सरकार दो फाड़ होती दिख रही है… और मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री आमने सामने आ गए हैं।

Note: ऊपर लिखे लेख लेखक के निजी विचार हैं.

50 हजार से अधिक सम्मानित पाठकों के साथ झारखंड जंक्शन झारखंड का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ऑनलाइन न्यूज पोर्टल है।

विज्ञापन के लिए संपर्क करें- 7042419765

Facebook/Jharkhand Junction